बगल वाली मस्त पड़ोसन

बगल वाली मस्त पड़ोसन

मेरा नाम आकाश हें. मेनें मॅचनिकल इंजिनीरिंग खतम कर के हैद्राबाद में जॉब करता हूं. मैं DesiStoryNew.com का नियमित पाठक हूँ. मैं बहुत दिनों से सोच रहा था कि मैं भी अपनी कहानी लिखूँ. पर लिखने का कभी समय ही नहीं मिला, आज मन बना कर अपनी कहानी लिख रहा हूँ. यह घटना बगलवाली मस्त पड़ोसन (padosan) के साथ चुदाई बिलकुल सत्य है.

मेरी हाईट 5 फिट 3 इंच है. मेरा लंड 7 इंच लंबा और 2.5 इंच मोटा है.

अपने इस लंड से मुझे इतना भरोसा है कि मैं किसी भी चुत को चोद कर संतुष्ट कर सकता हूँ.

मेरी दूसरी ख़ास बात ये है कि मैं सीधे चुदाई करना पसंद नहीं करता हूँ, बल्कि आराम से और पूरे मज़े से करता हूँ.

मेरे मकान मलिक के एक बेटा और एक बेटी है, बेटा अमेरिका में जॉब करता है और बेटी अभि इंजिनीरिंग के तिसरे साल में पढ रही है, उसका नाम अनन्या है.

वो दिखने में बहुत ही सेक्सी है. उसका रंग सावलां है लेकिन उसकी फिगर बहुत ही सेक्सी है.

उसकी फिगर लगबग 32-26-34 ऐसी होगी. पुरा मोहल्ला उसके पीछे पागल है. मुझे लगता है कि जो भी कोई उसको एक बार देख लेगा, तो मुठ मारे बगैर नहीं रह सकता.

वो भी मैकेनिकल कि ही स्टुडन्ट है तो हम अक्सर एक साथ बातें करते है कभी कभी एक साथ मूवी और पार्टी भी करते है. मै ऊसपे लट्टू था लेकीन उसको कभीभी मालूम नाही होने दिया.

बात अभि मे महिने कि है, उसके फोर्थ सेमिस्टर के एक्साम्स थे. एक्साम्स के कारण वो देर रात तक पढाई करती थी और में भी नॉर्मली लेट नाईट ही सोता हूं.

मुझे अभि भी याद है उस रात वो थर्मोडायनामिक्स कि पढाई कर रही थी जो कि मेलानिकेल का बहुत ही हार्ड सब्जेक्ट है.

लेकिन वो मेरा फेवरेट सब्जेक्ट होणे के कारण मेरे सब कन्सेप्ट क्लिअर थे और में अच्छे से पढा भी सकता था इसलिये उस रात ओ मेरे रूम में पढाई के लिये आगयी.

मानो मेरे मन ही मन अलग सी ख़ुशी हो रही थी.

करीब 8-8.30 बजे वो मेरे कमरे में आयी और हम पढाई शुरु करे.

उसने नाईट ड्रेस पेहनी थी इसलिये उसका टी -शर्ट बहुत ही लूस था और उसने उस दिन ब्रा भी नही पेहना था इसलिये उसके बूब्स मेरेको क्लिअरली दिख रहे थे, लेकिन शुरु में मेनें इग्नोर किया और उसको पुरे कन्सेप्ट सिखाया.

करीब 11.30-12 बजेतक मेनें उसको पुरे सुबजेक्ट खतम किया और उसको खुद से प्रॅक्टिस करने को कहा और में टॉयलेट के लिये निकल गया.

यह कहानी आप DesiStoryNew.com में पढ़ रहें हैं।
वो खुद से प्रॅक्टिस कर रही थी और में उसके बाजू में बैठ कर मजे ले रहा था.

थोडी देर बाद अचानक उसने मेरी तरफ घूर के देखा तो शायद उसको मालूम हुआ इस डर से में डर गया.

उसने मेरी तरफ देख के हलकी सी स्माईल दी तब मेरेको हलका सुकून मिला.

में भी उसकी तरफ देखने लगा.

करीब 10 मिनिट हम ऐसेही एक -दुसरे को देख के हंस रहे थे.

तभी मेनें कुछ भी सोचेबीना उसके गालों पे पप्पी दे दाली.

तब वो शर्मा गयी और मेरेको कुछ भी नही बोली.

तब में समज गया कि काम हो सकता हें, तो में उसको अपनी तरफ खिंचके उसके ओठोपे किस कर दिया, उसके सर को पीछे से पकड कर उसको में किस करने लगा.

वो भी अब मेरा साथ दे रही थी.

वो मेरे बालो में हाथ फिराते हुये मेरे को किस कर रही थी.

करीब 20 मिनिट तक हम ऐसेही किस कर रहे थे.

तो फिर मेनें उसके टॉप के अंदर हाथ डालके उसके दूध दबाने लगा.

वो भी आह्ह उउउउउउउम्म्म्म्मआआआ कर के मेरा साथ दे रही थी.

उसकी ये सेक्सी आवाज से मेरेको बहुत जोश मिल रहा था.

इसलिये में भी उतनि सिद्धत से उसके दूध दबा रहा था और टॉप के उपर से ही चुस रहा था.

वो बस आह्ह उउउउउउउम्म्म्म्मआआआ आह्ह आह्ह्ह आह्ह्ह उउउउउउउम्म्म्म्मआआआ करने में लगी थी जिससे मेरेको उत्तेजना मिल रही थी.

मेनें उसका टॉप निकाल के फेक दिया और उसके दूध चूसने लगा.

वो भी मेरा पुरा साथ दे रही थी.

उसके बडे बडे बूब्स (bade boobs) देख कर में हैरान रेह गया.

में उसके बूब्स मेरे मूह में लेके चुसने लगा और बीच बीच में उसके निप्पल्स भी काट रहा था.

जब में उसके निप्पल काटता तो वो बडी कंसीन आवाज निकाल रही थी.

में कभी उसके लिप्स पे किस करता तो कभी उसके नाभी में मेरी जीभ डालके उसको चाटता था.

में बडे मझे से उसके बूब्स दबा रहा था. करीब 20 मिनिट के बाद में बूब्स दबाते दाबते उसके पॅंटी में हाथ डाल दिया.

उसकी चुत पुरी तरह से गिली हुई थी और पाणी छोड रही थी.

उसने भी मेरा शर्ट उतार दिया और मेरे चेस्ट पे मेरे निप्पल्स को कान्टने लगी.

मुझे बहुत ही अच्छा लग रहा था.

मेनें धीरे धीरे उसकी नायटी निकाल के फेक दी.

वो अभि बस पॅंटी में थी. ब्लॅक कलर कि पॅंटी में वो और जबरदस्त माल दिख रही थी.

उसने मेरी भी लोवर निकाल दी, में भी बस अंडरवियर में था. मेरा 7″ का लंड उसमे से पुरी तरह से खडा दिख रहा था.

में अब नीचे आगया था.

यह कहानी आप HotSexStory.xyz में पढ़ रहें हैं।
में पॅंटी के उपर से ही चुत को सहला रहा था.

वो बस आआआअह्हह्हह……ईईईईईईई….ओह्ह्ह्हह्ह….अई. .अई..अई….कर रही थी.

मम्मी…मम्मी…..सी सी सी सी.. हा हा हा …..ऊऊऊ ….ऊँ. .ऊँ…ऊँ…उनहूँ उनहूँ..” आवाज से पुरी रूम में एक तरह का नशा छा गया था.

मेनें उसकी पॅंटी भी उतार दी और दोनो पैर के बीच में सेट हो गया वो भी पैर फैलाके मेरेको पुरा साथ दे रही थी.

उसकी गुलाबी चुत पुरी तरह से गिली हो चुकी थी.

खूब सारा कामरस उसकी चुत से बह रहा था.

उसकी वो गुलाबी चुत देख के मेरे मुह में भी पाणी आगया.

उसके चूत कि खुशबू मेरेको मदहोश कर रही थी.

मेने टाइम वेस्ट नही करते हुए झट से उसके चुत को मुह लागाया और उसका पुरा पानी पिगया.

अब में उसके चुत में मेरी जीभ डाल के उसकी चुत चुस रहा था और साथ में एक उंगली डाल के अंदर बाहर कर रहा था.

अनन्या पुरी तरह से पागल हो रही थी.

में उसके चुत के दलो को एक एक करते हुए बडे आराम से चुत कि मालिश कर रहा था.

कृपया कुछ बताये